बाजरा में सिंचाई एवं जल निकास

       सिंचार्इ की संख्या वर्षा पर निर्भर करती है । अच्छी फसल लेने के लिए आमतौर पर एक या दो सिंचाइयाँ काफी  है 

        वर्षा होने पर महत्वपूर्ण अवस्थाएं  फुटाव, फूल आने तथा दानों की दूधिया अवस्था में  सिंचाई अवश्य करें

       भारी वर्षा होने पर जल-निकास का उचित प्रबंध आवश्यक है क्योंकि बाजरे की फसल पानी का ठहराव सहन नहीं कर सकती